Latest love shayri

Ishq ka jisko khwaab aa jata hai,
Waqt samjho khraab aa jata hai,
Mehboob aaye ya na aaye,
Par Taare ginne ka hisaab jarur aa jata hai!

इश्क का जिसको ख्वाब आ जाता है,
समझो उसका वक़्त खराब आ जाता है,
महबूब आये या न आये,
पर तारे गिनने का तो हिसाब आ ही जाता है!

 

Comments

Sponsor