latest love shayri

Na zid hai na koi gurur hai hume,
Bas tumhe pane ka surur hai hume,
Ishq gunah hai to galti ki humne,
Saza jo bhi ho manjur hai hume!

न जिद है न कोई गुरूर है हमे,
बस तुम्हे पाने का सुरूर है हमे,
इश्क गुनाह है तो गलती की हमने,
सजा जो भी हो मंजूर है हमे।

Comments

Sponsor